Published On: Fri, Sep 19th, 2014

रक्षा मंत्रालय से गायब हुई विमान खरीदने की फाइल

[ A+ ] /[ A- ]


नई दिल्ली। रक्षा मंत्रालय से एक बार फिर एक अहम फाइल को गायब होने का मामला सामने आया है। गुम हुई फाइल ब्रिटिश हॉक अडवांस्ड जेट ट्रेनर की खरीदारी से जुड़ी है। मंत्रालय ने फाइल के गुम होने की जांच के आदेश दे दिए हैं। सूत्र ने बताया कि इसके लिए जिम्मेदार अधिकारी को सजा दी जाएगी। फाइल गुम होने की वजह से एजेटी मिलने में देरी हो सकती है।

RH-Hawk AJTभारत ने पहली बार मार्च 2004 में डबल सीट वाले 66 हॉक एजेटी का ऑर्डर दिया था। उसके बाद वर्ष 2010 में 57 और एजेटी का ऑर्डर दिया। दोनों प्रॉजेक्ट की कुल लागत 16, 000 करोड़ रुपये है। अडवांस्ड जेट ट्रेनर भारतीय वायु सेना और नौ सेना के पायलट्स को लड़ाकू विमान की बारिकियों के बारे में प्रशिक्षित करने के लिए मंगाए जा रहे हैं।

जो फाइल गायब हुई है वह भारतीय वायु सेना की चर्चित किरण ऐरोबैटिक्स टीम के लिए 20 एजेटी की खरीदारी से संबंधित है। सही एयरक्राफ्ट नहीं मिलने की वजह से इस टीम ने पिछले तीन सालों से उड़ान नहीं भरी है।

एजेटी खरीदारी का पूरा प्रॉजेक्ट 2017-2018 तक पूरा होना है। इस पर 20,000 करोड़ से अधिक की लागत आएगी। इस परियोजना के तहत पहली बार 24 विमानों की सप्लाइ सीधे बीएई सिस्टम के जरिए की गई और शेष 119 विमानों का उत्पादन लाइसेंस समझौते के तहत भारत में ही हिंदुस्तान ऐरोनॉटिक्स लि. के द्वारा किया जा रहा है।

ऐसा दूसरी बार हुआ है जब रक्षा मंत्रालय से कोई अहम फाइल गायब हुई है। करीब तीन साल पहले 126 फाइटर विमानों की खरीद के लिए 20 बिलियन डॉलर लागत वाले समझौते से जुड़ी फाइल गायब हो गई थी। काफी बवाल मचने के बाद मे यह फाइल नई दिल्ली के एक इलाके से रहस्यमयी परिस्थिति में बरामद हुई थी और इसे एक नागरिक ने भारतीय वायु सेना के हवाले कर दिया गया था।

Subscribe to Republic Hind News


About the Author

-

Leave a comment

XHTML: You can use these html tags: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

Copyright © 2012-18 Republic Hind News Network. All Rights Reserved.