Published On: Tue, Sep 23rd, 2014

बालाजीपुरम मंदिर से साईं की मूर्ति हटाने के बाद होगा शुद्धिकरण

[ A+ ] /[ A- ]


बेतुल, मध्य प्रदेश। शंकराचार्य द्वारा आयोजित धर्मसंसद में तथाकथित ‘साईं बाबा’ का सनातन मंदिरों से बहिष्कार के आदेश के बाद इसकी शुरूआत करते हुए सर्वप्रथम मध्य प्रदेश के बेतुल में रुक्मणी बालाजी मंदिर, बालाजीपुरम से साईं बाबा की मूर्ति हटाने जाने की प्रक्रिया शुरू हो गई है। धर्मसंसद के आदेशानुसार इस मंदिर में ‘साईं’ की पूजा बंद की गई, फिर मंदिर के पट बंद किए गए और उसके बाद ‘साईं’ मूर्ति को मंदिर से हटाकर तथाकथित ‘साईं बाबा’ के भक्तों को सौंपने का फैसला लिया गया है। साईं मूर्ति हटाए जाने के बाद सनातन मंदिर को पुनः पवित्र करने के लिए शुद्धिकरण भी किया जाएगा।

RH-Dharm Sansadसाईं मूर्ति को सम्मान के साथ कैसे विदा किया जाए, इसके लिए मंदिर में बैठक बुलाई गई। मंदिर समिति की बैठक में नाराज साईं भक्तों ने हिस्सा नहीं लिया। चर्चा इस बात पर हुई कि मूर्ति का विसर्जन करना बेहतर होगा अथवा इसे साईं भक्तों को सौंप दिया जाए। इसी दौरान यह भी बात उठी कि तथाकथित ‘साईं बाबा’ मुसलमान थे। एक किताब जिसमें ऐसा दावा किया गया है, उसे भी बांटा गया। किताब के अनुसार साईं बाबा मांसाहारी थे और उसका असल नाम चाँद मियां था। इसी को आधार मानते हुए फैसला किया गया कि मूर्ति भोपाल के एक मुसलमान समुदाय को सौंप दी जाएगी।

फैसले से तनाव बढ़ने की आशंका के मद्देनजर जिला प्रशासन ने फौरन मीटिंग की। प्रशासन ने हस्तक्षेप करते हुए मूर्ति मुस्लिम समुदाय को सौंपे जाने के फैसले पर रोक लगा दी है। 13 साल पहले इस मंदिर में साईं बाबा की मूर्ति की स्थापना की गई थी। कवर्धा में हुए धर्मसंसद के आदेश के बाद से मंदिर में साईं पूजा बंद की गई है। इसके बाद अन्य मंदिरों से साईं की मूर्ति हटाई जाएगी।

Subscribe to Republic Hind News


About the Author

-

Leave a comment

XHTML: You can use these html tags: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

Copyright © 2012-18 Republic Hind News Network. All Rights Reserved.