Published On: Wed, Oct 1st, 2014

आईपीएल स्पॉट फिक्सिंग मामले में दाउद-शकील भगोड़ा घोषित

[ A+ ] /[ A- ]


नई दिल्ली। दिल्ली की एक अदालत ने 2013 के आईपीएल स्पॉट फिक्सिंग मामले में माफिया सरगनाओं दाउद इब्राहिम और छोटा शकील तथा एक अन्य सह आरोपी को मंगलवार को भगोड़ा घोषित कर दिया। अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश नीना बंसल कृष्णा ने दाउद, शकील और चंडीगढ़ के संदीप शर्मा को भगोड़ा घोषित किया क्योंकि वे गिरफ्तारी से बच रहे हैं। दिल्ली पुलिस के विशेष प्रकोष्ठ ने इन तीनों के अलावा संदिग्ध किक्रेटरों एस श्रीसंत, अजीत चंदेला, अंकित चव्हाण और अन्य के खिलाफ आरोपपत्र दाखिल किए थे।

RH-IPL SPOT FIXINGसुनवाई के दौरान विशेष प्रकोष्ठ ने अदालत से कहा कि मुंबई में दाउद और शकील की संपत्ति पहले ही 1993 के मुंबई बम विस्फोट मामले में जब्त की जा चुकी है। विशेष प्रकोष्ठ ने यह भी कहा कि जांच में यह बात भी सामने आयी है कि 1993 से वे भारत नहीं आए हैं। उसने कहा कि दाउद के नाम से मुंबई में डोंगरी में संपत्ति है जबकि शकील के नाम से नागपाड़ा में संपत्ति है।

पुलिस ने अदालत से कहा कि उन्होंने मुंबई में दाउद और शकील के पड़ोसियों से भी पूछताछ की तथा उन लोगों ने सूचित किया कि दोनों आरोपी 1993 से उस इलाके में नहीं दिखे हैं। अदालत ने उन आरोपियों के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी किए थे जिनके खिलाफ मामले में आरोपपत्र दाखिल किए गए हैं। अदालत ने मामले की सुनवाई के लिए अगली तारीख 14 नवंबर तय की है।

पुलिस के अनुसार संदीप मामले में एक महत्वपूर्ण कड़ी था क्योंकि और वह दाउद द्वारा संचालित उस गिरोह का हिस्सा था जो आईपीएल स्पॉट फिक्सिंग मामले में शामिल था।

अदालत ने 16 अगस्त को दंड प्रक्रिया संहिता की विभिन्न धाराओं के तहत संपत्ति जब्त करने के लिए नए सिरे से कार्यवाही शुरू करने का निर्देश दिया था। अदालत ने मामले में बार बार स्थगन किए जाने की मांग पर भी चिंता जतायी थी। इसके साथ ही अदालत ने सभी आरोपियों को आरोपपत्र तथा अन्य दस्तावेजों की प्रतियां मुहैया कराने का निर्देश पुलिस को दिया था।

इसके पहले विशेष प्रकोष्ठ ने अदालत को सूचित किया था कि इन आरोपियों के खिलाफ जारी गैर जमानती वारंट का तामील नहीं किया जा सका क्योंकि वे अब उन पतों पर नहीं रहते जो भारत में उनके आखिरी ज्ञात पते थे। दाउद और शकील के अलावा पाकिस्तान जावेद चुटानी, सलमान उर्फ मास्टर और इहतेशाम के खिलाफ भी गैर जमानती वारंट जारी किए गए थे। इन सभी को दाउद का करीबी माना जाता है।

पुलिस ने अपने आरोपपत्र में दावा किया था कि दाउद और शकील भारत में क्रिकेट में फिक्सिंग और सट्टेबाजी के बाजार को नियंत्रित करते रहे हैं और वे ही आईपीएल स्पॉट फिक्सिंग के पीछे हैं।

Subscribe to Republic Hind News


About the Author

-

Leave a comment

XHTML: You can use these html tags: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

Copyright © 2012-18 Republic Hind News Network. All Rights Reserved.