स्वर्ण भंडार में विश्व के 10वें स्थान पर है भारत

[ A+ ] /[ A- ]


नई दिल्ली। विश्व स्वर्ण परिषद (डब्ल्यूजीसी) की एक ताजा रिपोर्ट में बताया गया है कि भारत दुनिया के सर्वाधिक स्वर्ण भंडार वाले 10 देशों के क्लब में शामिल है। सर्वाधिक स्वर्ण भंडार वाले 10 देशों में अमरीका, चीन, जापान और रूस जैसे विकसित और शक्तिशाली देश शामिल हैं। विश्व स्वर्ण परिषद के मुताबिक, दुनिया में सबसे बड़ा स्वर्ण भंडार अमरीका के पास 8,133.5 टन है। अमरीका के कुल विदेशी पूंजी भंडार में इसका योगदान 72.1 फीसदी है। भारत का स्थान सूची में 10वाँ है, और इससे ऊपर अमरीका, जर्मनी, इटली, फ्रांस, रूस, चीन, स्विट्जरलैंड, जापान और नीदरलैंड्स हैं।

RH-India Goldभारत के पास 557.7 टन स्वर्ण मौजूद है, जो देश के कुल विदेशी पूंजी भंडार का 7.1 फीसदी है। भारत के पड़ोसी देशों में पाकिस्तान के पास 64.5 टन (कुल विदेशी पूंजी भंडार का 20.6 फीसदी), नेपाल के पास 36.3 टन (कुल भंडार का 22.1 फीसदी), श्रीलंका के पास 22.1 टन (कुल भंडार का 10.2 फीसदी), म्यांमार के पास 7.3 टन (कुल भंडार का 4.1 फीसदी) और मॉरीशस के पास 3.9 टन (कुल भंडार का 4.0 फीसदी) स्वर्ण मौजूद है।

विश्व स्वर्ण परिषद ने स्वर्ण भंडार वाले प्रमुख देशों की सूची के साथ संलग्न एक टिप्पणी में कहा है, “यह सूची अक्टूबर 2014 में अद्यतन की गई। आंकड़े अंतर्राष्ट्रीय मुद्राकोष (आईएमएफ) के अंतर्राष्ट्रीय वित्तीय सांख्यिकी (आईएफएस) अक्तूबर 2014 संस्करण तथा अन्य उपलब्ध स्रोत से लिए गए हैं। विश्व स्वर्ण परिषद की सूची में सबसे नीचे 100वें स्थान पर यमन है। उसके पास 1.6 टन (कुल भंडार का 1.2 फीसदी) स्वर्ण मौजूद है। रिपोर्ट 2 महीने पहले के आंकड़ों पर आधारित है यानी, स्वर्ण भंडार की यह स्थिति अगस्त 2014 या उससे पहले की है।

आई.एफ.एस. आंकड़े दो महीने पुराने होते हैं इसलिए भंडार की यह स्थिति अधिकतर देशों के लिए अगस्त 2014 की है। टिप्पणी में साथ ही कहा गया है, “जिन देशों ने आंकड़े देरी से दिए हैं, उनके संदर्भ में आंकड़े जुलाई 2014 या उससे भी पुराने हैं।”

world gold reserves

Subscribe to Republic Hind News


About the Author

-

Leave a comment

XHTML: You can use these html tags: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

Copyright © 2012-18 Republic Hind News Network. All Rights Reserved.