Published On: Wed, Oct 8th, 2014

पासवान ने कहा, पटना गांधी मैदान हादसे की हो न्यायिक जांच

[ A+ ] /[ A- ]


पटना। दशहरा के दिन गाँधी मैदान में लण्का दहन के दौरान हुए भडदड़ की न्यायिक जाँच कराने की मांग केन्द्रीय खाद्य एवं उपभोक्ता संरक्षण मंत्री और लोक जनशक्ति पार्टी के अध्यक्ष रामविलास पासवान की है। पासवान ने घटनास्थल गांधी मैदान एवं रामगुलाम चौक का जायजा लेने के बाद पटना मेडिकल कॉलेज अस्पताल में भर्ती लोगों से मुलाकात की। पत्रकारों से बातचीत में पासवान ने कहा कि इस मामले की प्रशासनिक जांच का कुछ भी नतीजा नहीं आने वाला है।

RH-Pak Borderराजग के सहयोगी दल के नेता पासवान ने कहा कि प्रशासनिक जांच के नाम पर सिर्फ बिहार सरकार लीपा-पोती करती है। केन्द्रीय मंत्री ने कहा कि पटना भगदड़ मामले की न्यायिक जांच कराई जानी चाहिए और तीन माह में इसकी रिपोर्ट आनी चाहिए। न्यायिक जांच से ही मामले की सच्चाई का पता चल सकेगा। उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी की पिछले वर्ष गांधी मैदान में हुई हुंकार रैली के दौरान इतना बड़ा हादसा हुआ था। उससे भी इस सरकार ने कोई सबक नहीं लिया।

पासवान ने कहा कि भाजपा की हुंकार रैली के दौरान हुए हादसे से यदि राज्य सरकार ने सबक लिया होता, तो रावण वध के दौरान इतनी बड़ी घटना नहीं होती। उन्होंने कहा कि गांधी मैदान में इतना बड़ा आयोजन किया गया, लेकिन इसमें आने वाले लोगों की सुरक्षा के लिये कोई प्रबंध नहीं था। केन्द्रीय मंत्री ने कहा कि राम गुलाम चौक की ओर गांधी मैदान का जो प्रवेश द्वार आम लोगों के लिए खोला गया था, उसके नीचे नाली पर लोहे का जाल लगा है। जिसकी स्थिति अब जर्जर हो चुकी है। इसमें आम तौर पर भी लोगों के आने जाने में पैर फंसते हैं।

उन्होंने कहा कि अधिकारियों को इस प्रवेश द्वार को आम लोगों के लिए खोलने से पहले अच्छी तरह से इसकी स्थिति को देख लेना चाहिए था। पासवान ने कहा कि बिहार में जनता दल यूनाइटेड (जदयू), कांग्रेस और राष्टीय जनता दल (राजद) गठबंधन की सरकार है जो पूरी तरह फेल हो चुकी है। भगदड़ की घटना के लिए गठबंधन में शामिल सभी दल समान रूप से दोषी हैं। उन्होंने कहा कि घटना होने के बाद सरकार इस मामले को दबाने के लिए अपने स्तर से जांच कराने में लगी है। सरकार की इस चालबाजी को जनता अच्छी तरह से समझ रही है।

केन्द्रीय मंत्री पासवान ने कहा कि इतनी बड़ी घटना के बाद भी सरकार की ओर से त्वरित कार्रवाई नहीं की गई। पासवान ने मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी को मुखौटा बताया और कहा कि राज्य सरकार का सभी काम पूर्व मुख्यमंत्री और जदयू के वरिष्ठ नेता नीतीश कुमार ही देख रहे हैं। अभी तक घायलों से मिलने का समय भी कुमार नहीं निकाल पाए हैं। यह उनकी संवेदनहीनता को दर्शाता है।

Subscribe to Republic Hind News


About the Author

-

Leave a comment

XHTML: You can use these html tags: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

Copyright © 2012-18 Republic Hind News Network. All Rights Reserved.