उमा ने कहा, किसी कीमत पर गंगा में न जाए गंदगी, बनेगा गंगा किनारे गांवों में ख़ास शौचालय

[ A+ ] /[ A- ]


नई दिल्ली। गंगा के किनारे बसे गांवों में विशेष डिजाइन के शौचालय बनाए जाएंगे। जिससे उनकी गंदगी गंगा में बहकर न जाए। ‘गंगा निर्मल अभियान’ की कमान संभाल रही केंद्रीय गंगा संरक्षण मंत्री उमा भारती ने कहा कि गंगा को उद्योग, सीवर से जाने वाले गंदे पानी और नालों की गंदगी से बचाना है। भारती ने पेयजल स्वच्छता मामलों के मंत्रालय के सचिव से कहा कि वे हर हाल में सुनिश्चित करें कि गंगा के किनारे बसे 1650 चिन्हित गांव के शौचालयों का सीवेज सिस्टम ऐसा हो कि इनकी गंदगी गंगा या सहायक नदियों में नहीं जाए।

RH-Ganga Action Plan uma bhartiउमा भारती ने केंद्रीय ग्रामीण विकास व पेयजल स्वच्छता मामलों के मंत्री चौधरी बीरेंद्र सिंह से मुलाकात करके गंगा को साफ करने में दोनों मंत्रालयों के समन्वय पर चर्चा की। मंत्रालय के सचिव से बात करते वक्त उमा के तेवर सख्त थे। उन्होंने कहा कि क्या काम कैसे होगा वे तय करें, लेकिन योजना ऐसी बने कि गंगा में गंदगी किसी सूरत में नहीं जानी चाहिए। उन्होंने सचिव से कहा कि तीन माह में शौचालयों का डिजाइन तक नहीं तय किया गया।

उमा की बात सुनने के बाद केंद्रीय ग्रामीण विकास मंत्री ने अपने सचिव से कहा कि उमा जी ने जो कुछ कहा है, उस पर पूरी तरह से अमल किया जाए। उन्होंने यह भी भरोसा दिया कि उनका मंत्रालय गंगा सफाई को लेकर हर तरह से सहयोग देगा। बाद में उमा भारती गृह मंत्री राजनाथ सिंह से मिलने गईं। उन्होंने मुलाकात के बाद कहा कि राजनाथ सिंह भाजपा में गंगा के प्रभारी थे। मैंने उनसे कहा था कि गंगा मुझे दे दीजिए। अब मैं मंत्री हूँ। मैं उनसे गंगा निर्मल अभियान की प्रगति पर बात करने गई थी।

उमा भारती ने कहा कि गंगा को निर्मल बनाने में कोई कसर नहीं छोड़ी जाएगी। उन्होंने कहा कि मैंने उद्योग जगत के लोगों से चर्चा की है। उनसे कहा है कि वे जल्द ऐसे प्रबंध करें कि गंगा में उद्योगों का कचरा गंदगी न जाए। प्रदूषण बोर्ड के लोगों से चर्चा की गई है।

Published on: Nov 13, 2014 @ 5:52/www.republichind.com
Subscribe to Republic Hind News




About the Author

-

Leave a comment

XHTML: You can use these html tags: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

Copyright © 2012-18 Republic Hind News Network. All Rights Reserved.