जवानों की वीडियो शिकायत का हुआ समाधान, सेना में होगी अब शिकायत पेटी, सेना प्रमुख ही खोलेंगे

[ A+ ] /[ A- ]


नई दिल्ली। बीएसएफ, सीआरपीएफ और सेना के जवानों के द्वारा वीडियो जारी कर की गई शिकायत को सेना प्रमुख बिपिन चंद्र रावत ने संज्ञान लेते हुए आज प्रेस कॉन्फेंस बुलाकर कहा कि जवानों को वीडियो जारी कर अपनी दुख बताने की जरूरत नहीं, इसके लिए अब शिकायत पेटी लगाई जाएगी। इसके जरिए जवान अपनी शिकायत पहुँचा सकते हैं। सेना प्रमुख ने आश्वासन दिया कि इस पेटी को वह खुद ही खोलेंगे।

RH- Rawatबता दें कि बीते कुछ दिनों में सेना और अर्धसैनिक बलों के जवानों की ओर से कई वीडियो शिकायत सामने आए हैं। पहले बीएसएफ, फिर सीआरपीएफ और उसके बाद सेना के एक जवान ने वीडियो जारी करके उत्पीड़न की शिकायत की है। सेना के इस जवान का नाम लांस नायक यज्ञ प्रताप सिंह है। इसमें उन्होंने अधिकारियों पर उत्पीड़न का आरोप लगाते हुए पीएम नरेन्द्र मोदी से दखल देने की मांग की है।

सेना के लांस नायक की वीडियो

देहरादून के 42 इन्फेंट्री ब्रिगेड में तैनात लांस नायक यज्ञ प्रताप सिंह ने वीडियो में कहा कि उन्होंने जून में पीएम, रक्षामंत्री, राष्ट्रपति और सुप्रीम कोर्ट को लिखा था। उनकी ब्रिगेड को पीएमओ की ओर से निर्देश दिए गए हैं कि आरोपों की जाँच की जाए। सिंह के मुताबिक, मामले की जाँच के बजाए अधिकारियों ने उन्हें परेशान करना शुरू कर दिया। इसके अलावा, उनके खिलाफ ही जाँच शुरू कर दी, जिसके तहत उनका कोर्ट मार्शल भी हो सकता है। सिंह ने वीडियो में कहा, “मैंने पीएम को लिखी चिट्ठी में कहा था कि सहायक के तौर पर काम करने वाले सैनिकों से बूट पॉलिश नहीं करवाना चाहिए।”

सोशल मीडिया के जरिए वीडियो हुआ वायरल

हाल में बीएसएफ के जवान तेज बहादुर का एक वीडियो वायरल हो गया था। इसमें उन्होंने आरोप लगाया था कि जवानों को घटिया खाना परोसा जा रहा है और अधिकारी उनके राशन को बाजार में बेच देते हैं। वहीं, सीआरपीएफ के जवान का भी एक वीडियो सामने आया। उसका आरोप था कि एक जैसी ड्यूटी के बावजूद उनकी अनदेखी होती है और सेना के मुकाबले उन्हें बेहद कम सुविधाएं दी जाती है। वीडियोज सामने आने के बाद अफसरों से लेकर पीएमओ तक हरकत में आया और मामले की जाँच के आदेश दिए गए।

Subscribe to Republic Hind News




About the Author

-

Leave a comment

XHTML: You can use these html tags: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

Copyright © 2012-18 Republic Hind News Network. All Rights Reserved.