Published On: Wed, Apr 18th, 2018

राहुल गांधी की राह देख रहा उनका गोद लिया गाँव

[ A+ ] /[ A- ]


अमेठी। देश में अगले साल होने वाले आम चुनावों से पहले कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को विपक्ष की तरफ से प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार के तौर पर पेश किया जा रहा है। राहुल गांधी के संसदीय क्षेत्र उत्तर प्रदेश के अमेठी और सांसद आदर्श ग्राम योजना के तहत गोद लिए गांव जगदीशपुर गांव अपने हालात से अवगत कराने के लिए खुद ही राहुल गांधी की राह देख रहा है। स्थानीय लोगों का कहना है कि राहुल गांधी के द्वारा गोद लेने की वजह से जगदीशपुर गांव देश-दुनिया के लोगों की नजरों में तो आ गया, लेकिन यहां विकास के नाम पर कुल जमा एक पानी की टंकी ही मिली और वह भी अभी तक शुरू नहीं हो पाई है।

गांव के ही एक युवक ने बताया, ‘जब राहुल गांधी ने इस गांव को गोद लिया तो मीडिया, प्रशासन और नेताओं का रोज का आना-जाना लगा रहता था। एक से एक गाड़ियां दिन भर यहां डेरा डाले रहती थीं, लेकिन यह केवल कुछ दिनों का ही मंजर था। 4 साल पूरे होने वाले हैं, लेकिन यहां की सुध लेने वाला कोई नहीं है।’ गांव की प्रधान महादेवी यादव और उनके प्रतिनिधि जितेन्द्र ने कहा, ‘हमारे गांव को गोद लिए 4 साल होने वाला है। यहां अभी तक ऐसा कुछ भी नहीं हुआ है जिससे आस-पास के गांवों की तुलना में जगदीशपुर की स्थिति को बेहतर बताया जा सके। अस्पताल यहां से 10 किलोमीटर की दूरी पर है। इसके साथ ही बैंक, इंटर कॉलेज और उच्च शिक्षा के लिए भी गांव में कोई काम नहीं हुआ है।’ उन्होंने कहा कि यदि राहुल गांधी थोड़ा-सा प्रयास करते तो इस गांव की हालत सुधर जाती लेकिन उन्होंने यहां के लिए कुछ नहीं किया।

गौरतलब है कि केंद्र में सत्तारूढ़ एनडीए सरकार की महात्वाकांक्षी सांसद आदर्श ग्राम योजना को लागू हुए 4 साल पूरे होने वाले हैं, लेकिन इस दौरान कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी द्वारा गोद लिए गए डीह ब्लॉक के गांव जगदीशपुर में कुछ भी नहीं बदला है। गांव में स्वास्थ्य के नाम पर एक सामुदायिक उपकेंद्र है, लेकिन ग्रामीणों के अनुसार यहां भी ज्यादातर समय ताला लटका रहता है। गांव की एक बुजुर्ग महिला ने कहा, ‘मेरी बहू को प्रसव के दौरान 14 किलोमीटर दूर ले जाना पड़ा, यहां ना सड़कें हैं और ना ही साधन की सुविधा। यदि उसके साथ कोई अनहोनी हो जाती तो उसकी जिम्मेदारी क्या राहुल गांधी लेते?’

कांग्रेस पार्टी के स्थानीय नेताओं और कार्यकर्ताओं ने केंद्र और प्रदेश में विरोधी पार्टियों की सरकार होने को गांव की बदहाली की वजह बताया। उन्होंने बताया कि सत्तारुढ़ सरकार जान-बूझकर राहुल गांधी के गोद लिए गांव के साथ सौतेला व्यवहार कर रही हैं। हालांकि बीजेपी के जिलाध्यक्ष दिलीप यादव का कहना है कि कांग्रेस आदर्श ग्राम योजना के लिए अलग से फंड मांग रही है, लेकिन राहुल गांधी को जो सांसद निधि मिली है, उसे ही वह अब तक खर्च नहीं कर पाए हैं। दिलीप ने कहा, ‘यदि सही उद्देश्य के साथ राहुल गांधी इस गांव को आदर्श बनाने के लिए कुछ काम करते और फंड की कमी पड़ती तो वह केन्द्र से मांग करते।’ उन्होंने कहा कि रायबरेली और अमेठी में 70 सालों से कांग्रेस है लेकिन विकास के नाम पर यहां कुछ नहीं हुआ है।

Subscribe to Republic Hind News


About the Author

-

Leave a comment

XHTML: You can use these html tags: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

Copyright © 2012-18 Republic Hind News Network. All Rights Reserved.